You are currently viewing Friendship मे कैसे करे अच्छे और बुरे दोस्तों की पहचान

Friendship मे कैसे करे अच्छे और बुरे दोस्तों की पहचान

हेल्लो दोस्तों, क्या हाल चाल है आप सब के, आज के इस ब्लॉग में दुनिया के एक सबसे बेहतरीन रिश्ते की बात करने वाले है जो जिंदगी के हर एक मोड़ पर आकर आपका साथ जरुर देता है, जी हाँ हम बात कर रहे है फ्रेंडशिप की, दोस्ती की, यारी की, जिदंगी में अगर दोस्त ना हो तो लाइफ काफी बोरिंग हो जाती है, दोस्तों के बिना सब अधूरा है, दोस्ती का रिश्ता भी बाकी सभी रिश्तों की तरह काफी अनमोल माना जाता है, बचपन की लाइफ में तो दोस्ती का मतलब ही बड़ा खास होता है, क्यूंकि कुछ दोस्त ऐसे होते है जो बचपन से लेकर बड़े होने तक फिर बड़े से बूढ़े होने तक पूरी जिंदगी आप का साथ निभा जाते है, यही तो होती है दोस्त की दोस्ती और दोस्ती की मिसाल 

लेकिन हमारी लाइफ में जहाँ बहुत सारे अच्छे दोस्त होते है तो वही कही ना कही आपसे जलन करने वाले, हर बार आपको नीचा दिखाने वाले, मुह पर कुछ और पीठ पीछे कुछ ऐसे अवगुण वाले बुरे दोस्त भी आपके साथ कही ना कही जुड़े रहते है, इनका मुख्य उद्देश्य होता है की आपको आगे नहीं बढ़ने देना है, अगर आप सफलता की ऊंचाई की तरफ जा रहे है तो ये आपको नीचे गिराने का हर संभव प्रयास करेंगे लेकिन हाँ आपके साथ ऐसे शो करेंगे की आपके बेस्ट फ्रेंड हो 

तो आज हम आपको बताने वाले है की क्या होती है गुड फ्रेंडशिप और बैड फ्रेंडशिप, और फ्रेंडशिप में कैसे करे अच्छे और बुरे दोस्तों की पहचान, एक बात तो है की अच्छे और सच्चे दोस्त मिलने बहुत मुश्किल होते है, लेकिन वही बुरे दोस्त या फिर कहे मतलबी दोस्त आपको झोली भर भर के मिलेंगे 

 

Good Friends vs Bad Selfish Friends

 

1. दोस्ती में कोई कम्पटीशन नहीं 

देखिये दोस्ती की यही खास बात है की ये आपको मिलजुल कर रहना सिखाती है इसलिए अगर आपका दोस्त सच्चा होगा तो वो कभी भी आपके साथ कम्पटीशन नहीं करेगा और ना ही कभी करने की सोचेगा, वही बुरा और मतलबी दोस्त तो सबसे पहले ही मन और दिमाग में यही ख्याल रखेगा की आपको कैसे हराया जाए, ऐसे मतलबी और बुरे दोस्तों से दूर ही रहे 

2. अच्छे और बुरे वक्त से पहचाने अच्छे और बुरे दोस्त को 

एक अच्छा और सच्चा दोस्त वही है जो भले ही आपके अच्छे वक़्त में आपके साथ ना हो लेकिन बुरे वक़्त में बिना देर किये. बिना स्वार्थ के आपके साथ आकर खड़ा हो जाए, वही आपके मतलबी और बुरे दोस्त को सिर्फ आपके अच्छे और खुशियों वाले दिनों में आपका साथ देने की आदत होगी, बुरा वक़्त आते ही वो पीठ दिखाकर भाग जाते है 

3. दोस्ती में कोई अमीर गरीब नहीं होता 

दोस्ती एक ऐसा पवित्र रिश्ता है जहां अमीर गरीब होना मायना नहीं रखता है, अगर आप अमीर है तो बहुत सारे मतलबी लोग आपके साथ आकर जुड़ जायेगे वो आपकी दोस्ती के लिए नहीं बल्कि आपके पैसो के लिए आपके साथ जुड़े है उन्हें आप से कोई मतलब नहीं, जब तक आपके पास पैसा है वो आपकी चापलूसी करेंगे लेकिन सच्चा दोस्त भले ही गरीब हो, उसके जीवन में दोस्ती की वैल्यू पैसो की वैल्यू से कही ज्यादा होगी और वो आपके साथ हमेशा खड़ा भी रहेगा एक सच्चे दोस्त की तरह 

4. दोस्ती के सीक्रेट 

देखिये एक फ्रेंडशिप यानी की दोस्ती में बहुत सारी सीक्रेट होती है जो दोस्त आपस में शेयर करते है, लेकिन अच्छा और सच्चा दोस्त अपनी दोस्ती की वैल्यू को समझता है और उसे पता है की दोस्ती की ताकत दोस्त में ही होती है इसलिए वो कभी अपनी दोस्ती के सीक्रेट किसी और के साथ शेयर नहीं करेगा वही आपके मतलबी दोस्त तो पूरी दुनिया में मजे ले करके आपके सीक्रेट को बताएँगे 

5. दोस्ती में एक दुसरे को नीचा नहीं दिखाते

वैसे तो आज कल की दोस्ती सिर्फ नाम की रह गयी है, दोस्ती में अगर आपके साथ कोई बुरा दोस्त जुड़ गया है तो वो आपको हर पल दूसरो के सामने नीचा दिखाने की कोशिश करेगा, वही अच्छा दोस्त आपको कभी नीचा नहीं दिखायेगा बल्कि आपसे अगर कोई गलती हुई है तो उसे अकेले में आपसे मिलकर समझाने की कोशिश करेगा जिससे आपको फायदा हो 

तभी तो कहा जाता है की दोस्त भले एक ही रखो लेकिन वो अच्छा और सच्चा हो, और हमेशा आपके साथ हर समय खड़ा रहे, कभी पीठ पीछे बुराई करे और कभी भी आपकी सफलता से चिढ़े नहीं 

Why Respect Your Wife – क्यों करे पत्नी का सम्मान

Sapno Ka Matlab और जाने सपनो का शुभ और अशुभ फल